Aalu Ki Kheti: आलू की खेती कैसे करें वैज्ञानिक तरीके से

Aalu Ki Kheti: आलू सब्जी का राजा कहा जाता है जो हर सीजन में मिल जाता है। आज की आर्टिकल में आपको बताया जाएगा कि आलू की खेती कैसे की जाती है किस सीजन में आलू की खेती किया जाता है। किस राज्य में इसकी खेती सबसे ज्यादा होती है। इन सभी चीजों के बारे में आज की आर्टिकल में बताया जाएगा। क्योंकि पूरे विश्व में खाद्य और पोषण सुरक्षा में एक उड़ान आलू का महत्वपूर्ण है। और भारत में सबसे ज्यादा का उपयोग किया जाता है, जबकि उत्पादन के रूप में किस नंबर पर भारत का स्थान है।

बता दे कि भारत में इसकी खेती रवि की फसल के रूप में किया जाता है।‌ जो सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में आलू की खेती की जाती है इसके बाद पश्चिम बंगाल बिहार मध्य प्रदेश अन्य राज्यों में आलू की खेती की जाती है। जो कि सालों भर सब्जी के रूप में इसका उपयोग किया जाता है‌। अगर पूरे विश्व भर में बात किया जाए तो नंबर वन पर चीन और दूसरे नंबर पर रस आता है। उसके बाद किस नंबर पर भारत का स्थान है। भारत में आलू सबसे पहला पुर्तगाली व्यापारियों के द्वारा लाया गया था।

Aalu Ki Kheti

अगर आप भी आलू की खेती करना चाहते हैं तो बहुत ही आसानी से खेती कर सकते हैं। इसकी खेती ग्रामीण क्षेत्र से लेकर सारी क्षेत्र में हर जगह काफी ज्यादा की जाती है। हमारे देश में आलू एक महत्वपूर्ण फसल के रूप में देखा जाता है। आप आलू की फसल लगाना चाहते हैं तो सबसे पहले इसके बारे में अच्छे तरीके से जानना होगा। तभी जाकर आप अच्छा किस के रूप में आलू की खेती कर सकते हैं।

इसकी खेती करने के लिए अच्छी भूमि का चयन करना होगा, इसके लिए जलवायु कैसा हो, किस्म किस प्रकार के हो, कौन सा उर्वरक महत्वपूर्ण है, कौन सा उर्वरक महत्वपूर्ण नहीं है। भूमि की जुताई का महत्व इन सभी चीजों के बारे में आपको पहले से जानकारी होनी चाहिए। तभी जाकर आप अच्छे से आलू की खेती कर पाएंगे।

Aalu Ki Kheti: आलू की खेती कैसे करें वैज्ञानिक तरीके से
Aalu Ki Kheti

Aalu Ki Kheti के लिए भूमि कैसी होनी चाहिए

  • आलू की खेती की मिट्टी का पीएच मान 6 से 7 के बीच होना चाहिए।
  • सबसे पहले मीठी परीक्षण करना होगा और उसे हिसाब से योजना बनानी होगी।
  • आलू की खेती के लिए चिकनी दोमट मिट्टी वाली या काली मिट्टी वाली भूमि बहुत ही उपजाऊ होती है।
  • भूमि अधिक जीवाश्म वाली होनी चाहिए।
    रेतीली भूमि में इसकी फसल न लगाएं।

आलू की खेती के लिए जलवायु कैसी होनी चाहिए

  • आलू की खेती के लिए समशीतोष्ण में जलवायु उचित मानी जाती है ठंड जलवायु से कांड की पोषकता अधिक बढ़ जाती है इस समय आलू काफी ज्यादा उपजाऊ होती है।
  • इसी खेती के लिए 15 से 20 डिग्री का जलवायु बहुत उचित माना जाता है।
  • भारत में ज्यादातर सर्दियों के मौसम में ही आलू की खेती की जाती है।

आलू के फसल के लिए तापमान

  • आलू की फसल के लिए तापमान 15 से 30 डिग्री के बीच होना चाहिए।
  • अगर आलू बीजों को आरंभ में अंकुरित होने के लिए तापमान 20 से 25 डिग्री आवश्यक होती है।
  • अच्छे उत्पादन के लिए सामान्य तापमान की आवश्यकता जरूरी है अधिक तापमान से आलू खराब भी हो सकता है इसलिए ध्यान रहे की इसका तापमान बरकरार रहे।
  • इसीलिए इसे ठंड के मौसम में अधिक उत्पादन क्षमता होती है और 30 डिग्री से अधिक तापमान हानिकारक होता है।
आलू की खेती कौन से महीने में की जाती है
  • आलू की खेती रबी के फसलों के साथ बोया जाता है।
  • इसकी खेती सितंबर महीने में चालू कर देनी चाहिए।
  • आलू के फसल के लिए अक्टूबर नवंबर महीने सबसे अच्छा माना जाता है।
आलू की उत्तम किस्मे
  • अब तक 47 किस्म का विकास देश के विभिन्न कृषि जलवायु क्षेत्र के लिए किया गया है उसमें हम जानेंगे कुछ किस्म के नाम।
  • जिसमें कुफरी चिपसोना, कुफरी हिमसोना, कुफरी ज्योति, कुफरी चंद्रमुखी, कुफरी लवकार, कुफरी सूर्य इत्यादि।
  • यह सभी किस में 70-80 दिन अधिकतम 90 से 100 दिनों में पूरा हो जाता है।
  • इसमें कुछ आलू की किस्म हमारे पड़ोसी देश में भी उगाई जाती है।

आलू में पाए जाने वाले पोषण तत्व

आलू में अत्यधिक पौष्टि के पोषण तत्व आसानी से मिल जाते हैं। और इसे पचाने वाले खाद्य आहार है। आलू के अंदर कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मिनरल, विटामिन उचित प्रति वाला रेशा पाया जाता है। आलू के कांड में 80% पानी और 20% शुष्क पदार्थ होते हैं इसमें विटामिन बी और सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। एवं चीनी की प्रतिशत 20 में ज्यादा होती है।

Leave a Comment